Ved Manjari – वेद मंजरी ( DR. RAMNATH VEDALANKAR )

175.00

92 in stock

लेखक परिचय – प्रस्तुत ग्रन्थ के लेखक आचार्य डॉ ० रामनाथ वेदालंकार वैदिक साहित्य के ख्याति प्राप्त मर्मज्ञ विद्वान् हैं । आपका जन्म ७ जुलाई १६१४ को फरीदपुर , बरेली , ( उ ० प्र ० ) में माता श्रीमती भगवती देवी एवं पिता श्री गोपालराम के घर हुआ । शिक्षा गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय हरिद्वार में हुई । इसी संस्था में ३८ वर्ष वेद – वेदांग , दर्शनशास्त्र , काव्यशास्त्र , संस्कृत साहित्य आदि विषयों के शिक्षक एवं संस्कृत विभागाध्यक्ष रहते हुए समय – समय पर आप कुलसचिव तथा आचार्य एवं उपकुलपति का कार्य भी करते रहे । वैदिक एवं संस्कृत साहित्य की सेवा के उपलक्ष्य में आप कई पुरस्कारों एवं सम्मानों से सम्मानित हो चुके हैं ।

  Ask a Question

महर्षि दयानन्द की याद आते ही , उसके साथ एक और नाम की याद स्वतः हो आती है , वह नाम है ” वेद ” । दयानन्द यदि देह है तो वेद उसका आत्मा है । दयानन्द के हाथ सर्वप्रथम वेद लगे । वेद क्या हाथ लगे मानो सच , झूठ की कसौटी हाथ लग गई । दयानन्द ने उद्घोष दिया कि ” वेद सब सत्यविद्याओं का पुस्तक है , जो इस पर खरा उतरे उसे ले लो शेष सब छोड़ दो । व्यर्थ के व्यामोह में न पड़ो । ” महर्षि दयानन्द की प्रेरणा से ही प्रस्तुत इस उपहारत्रयी में तीन प्रकार के वेद – मन्त्रों का संग्रह प्रस्तुत किया जा रहा है । एक ऐसा कि जिसे वर्ष के हर महीने आचरण में लाया जाए । दूसरा ५३ मन्त्रों का संग्रह , जिसका उपदेश प्रति सप्ताह जीवन में चरितार्थ किया जाए और तीसरा ऐसा कि जो वर्ष के प्रत्येक दिन के लिए उपयुक्त बैठता हो । ऐसे ३६५ मन्त्रों की हृदयहारी व्याख्या का नाम ” वेद – मञ्जरी ” है । पाठक इस मञ्जरी के एक – एक पराग का मधुपान करें और अपने हृदय – स्रोत को भरें । समय मिले तो अन्यों को भी वेद – मधु का पान करायें ।

लेखक परिचय – प्रस्तुत ग्रन्थ के लेखक आचार्य डॉ ० रामनाथ वेदालंकार वैदिक साहित्य के ख्याति प्राप्त मर्मज्ञ विद्वान् हैं । आपका जन्म ७ जुलाई १६१४ को फरीदपुर , बरेली , ( उ ० प्र ० ) में माता श्रीमती भगवती देवी एवं पिता श्री गोपालराम के घर हुआ । शिक्षा गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय हरिद्वार में हुई । इसी संस्था में ३८ वर्ष वेद – वेदांग , दर्शनशास्त्र , काव्यशास्त्र , संस्कृत साहित्य आदि विषयों के शिक्षक एवं संस्कृत विभागाध्यक्ष रहते हुए समय – समय पर आप कुलसचिव तथा आचार्य एवं उपकुलपति का कार्य भी करते रहे । वैदिक एवं संस्कृत साहित्य की सेवा के उपलक्ष्य में आप कई पुरस्कारों एवं सम्मानों से सम्मानित हो चुके हैं ।

Additional information

Weight 0.45 kg
Dimensions 22.86 × 13.97 cm
Be the first to review “Ved Manjari – वेद मंजरी ( DR. RAMNATH VEDALANKAR )”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Reviews

There are no reviews yet.

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.

Main Menu

Ved Manjari - वेद मंजरी ( DR. RAMNATH VEDALANKAR )

Ved Manjari - वेद मंजरी ( DR. RAMNATH VEDALANKAR )

175.00

Add to Cart