Agnihotra Sarvaswa – अग्निहोत्र सर्वस्व

85.00

47 in stock

वैदिक संस्कृति को यदि एक शब्द में उपसंहृत करना हो , तो वह शब्द है- यज्ञ । पौर्णमास से लेकर अश्वमेधपर्यन्त यज्ञों तक का वितान इसका सूचक है । फिर इन यज्ञों के वितान को भी उपसंहृत करके पञ्चमहायज्ञों में समेट दिया गया है । भगवान् मनु का आदेश है कि ‘ पञ्चैताँस्तु महायज्ञान् यथाशक्ति न . हापयेत् ।

  Ask a Question

वैदिक संस्कृति को यदि एक शब्द में उपसंहृत करना हो , तो वह शब्द है- यज्ञ । पौर्णमास से लेकर अश्वमेधपर्यन्त यज्ञों तक का वितान इसका सूचक है । फिर इन यज्ञों के वितान को भी उपसंहृत करके पञ्चमहायज्ञों में समेट दिया गया है । भगवान् मनु का आदेश है कि ‘ पञ्चैताँस्तु महायज्ञान् यथाशक्ति न . हापयेत् । ‘ – मुझे यदि भगवान् मनु द्वारा आदिष्ट इस श्लोकार्ध के परिवर्तन की अनुमति दे दी जाये , तो मैं लिखूँगा- ‘ षडैताँस्तु महायज्ञान् यथाशक्ति न हापयेत्’- यथाशक्ति कोई भी गृहस्थ इन छः महायज्ञों के करने में कभी प्रमाद न करे । यहाँ ब्रह्मयज्ञ में स्वाध्याय के साथ सन्ध्या भी गृहीत है , इसलिए हमने पञ्च के स्थान पर षट् का प्रयोग किया है । इन छ : महायज्ञों को पूर्व और उत्तर दो अर्धो में विभक्त किया जा सकता है । यदि पूर्वार्ध में तीन महायज्ञ हैं , तो उत्तरार्ध में भी तीन ही हैं । पूर्वार्ध की समाप्ति अग्निहोत्र की अग्नि में आहुति देने से होती है , तो उत्तरार्ध की समाप्ति जठराग्नि में आहुति देकर यथा अग्निहोत्र की अग्नि में आहुति देने से पूर्व सन्ध्या और स्वाध्याय करना अनिवार्य है , तद्वत् जठराग्नि में आहुति देने से पूर्व बलिवैश्वदेव – यज्ञ , अतिथियज्ञ और पितृ यज्ञ करना अनिवार्य है । इस प्रकार छः महायज्ञ पूर्व और उत्तर , दो अर्धो में विभक्त -हो गये ।

इन छः यज्ञों का क्रम और नाम इस प्रकार है : १. सन्ध्या , २. स्वाध्याय , ३. देवयज्ञ , ४. बलिवैश्वदेवयज्ञ , ५. अतिथियज्ञ , और ६. पितृयज्ञ | – ब्रह्मयज्ञ में ‘ ब्रह्म ‘ शब्द के कारण स्वाध्याय और सन्ध्या दोनों यज्ञ गृहीत है । महाभारत में ‘ ब्रह्म ‘ शब्द से परब्रह्म और शब्दब्रह्म दोनों ही गृहीत समझे गए हैं ; तद्यथा – द्वे ब्रह्मणी वेदितव्ये शब्द – ब्रह्म परञ्च यत् । शब्दब्रह्मणि निष्णातः परं ब्रह्माधिगच्छति ॥ शब्दब्रह्म ( वेद ) का चिन्तन स्वाध्याय है और परब्रह्म का चिन्तन सन्ध्या है । इन पंक्तियों में स्वाध्याय यज्ञ पर कुछ न कहकर शेष पञ्चमहायज्ञों की महत्ता के बारे में कुछ कहेंगे ।

Additional information

Weight 0.15 kg
Dimensions 21.59 × 13.97 cm
Be the first to review “Agnihotra Sarvaswa – अग्निहोत्र सर्वस्व”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Reviews

There are no reviews yet.

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.

Main Menu

Agnihotra Sarvaswa - अग्निहोत्र सर्वस्व

Agnihotra Sarvaswa - अग्निहोत्र सर्वस्व

85.00

Add to Cart