सत्यार्थ प्रकाश Satyarth Prakash By: Swami Dayanand Sarswati

300.00

67 in stock

सन् 1925 में महर्षि दयानन्द सरस्वतीजी के जन्म को सौ वर्ष पूरे हो चुके थे । इस अवसर पर मथुरा में जन्मशताब्दी समारोह का विश्व स्तर पर आयोजन किया गया , जिसके प्रधान आर्य जगत् के प्रमुख विद्वान् ऋषिभक्त , योगी एवं नेतृत्व करने की असीम क्षमता से युक्त महात्मा नारायण स्वामी जी थे । इस समारोह में लाखों की संख्या में लोग मथुरा पहुंचे थे जो एक अविस्मरणीय आयोजन बन गया था । इस अवसर की महत्ता को समझकर श्री गोविन्दरामजी ने ‘ सत्यार्थप्रकाश ‘ को प्रकाशित कर सस्ते मूल्य पर प्रसारित करने का संकल्प किया । महर्षि दयानन्द की इस महत्वपूर्ण कृति को बिना किसी प्रक्षेप के मूल रूप में प्रकाशित किया जा रहा है । कम्प्यूटर कृत कम्पोजिंग , शुद्ध सामग्री , नयनाभिराम छपाई , उत्तम कागज एवं सुन्दर आवरण युक्त यह संस्करण आपको अवश्य पसन्द आएगा और आप इससे लाभान्वित होंगे ऐसी आशा है । अंग्रेजी में भी उपलब्ध ।

Satyartha Prakasha is an exposition of Truth , Dharma and Revelation in the modern context . Swami Dayananda referred back to the permanent message of the Vedas and exhorted the Indians to renew and rebuild their life and culture in new forms which were relevant in the new age .

  Ask a Question

सन् 1925 में महर्षि दयानन्द सरस्वतीजी के जन्म को सौ वर्ष पूरे हो चुके थे । इस अवसर पर मथुरा में जन्मशताब्दी समारोह का विश्व स्तर पर आयोजन किया गया , जिसके प्रधान आर्य जगत् के प्रमुख विद्वान् ऋषिभक्त , योगी एवं नेतृत्व करने की असीम क्षमता से युक्त महात्मा नारायण स्वामी जी थे । इस समारोह में लाखों की संख्या में लोग मथुरा पहुंचे थे जो एक अविस्मरणीय आयोजन बन गया था । इस अवसर की महत्ता को समझकर श्री गोविन्दरामजी ने ‘ सत्यार्थप्रकाश ‘ को प्रकाशित कर सस्ते मूल्य पर प्रसारित करने का संकल्प किया । महर्षि दयानन्द की इस महत्वपूर्ण कृति को बिना किसी प्रक्षेप के मूल रूप में प्रकाशित किया जा रहा है । कम्प्यूटर कृत कम्पोजिंग , शुद्ध सामग्री , नयनाभिराम छपाई , उत्तम कागज एवं सुन्दर आवरण युक्त यह संस्करण आपको अवश्य पसन्द आएगा और आप इससे लाभान्वित होंगे ऐसी आशा है । अंग्रेजी में भी उपलब्ध ।

Satyartha Prakasha is an exposition of Truth , Dharma and Revelation in the modern context . Swami Dayananda referred back to the permanent message of the Vedas and exhorted the Indians to renew and rebuild their life and culture in new forms which were relevant in the new age .

Additional information

Weight .5 kg
Be the first to review “सत्यार्थ प्रकाश Satyarth Prakash By: Swami Dayanand Sarswati”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Reviews

There are no reviews yet.

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.

Main Menu

सत्यार्थ प्रकाश Satyarth Prakash By: Swami Dayanand Sarswati

सत्यार्थ प्रकाश Satyarth Prakash By: Swami Dayanand Sarswati

300.00

Add to Cart