गोकरुणानिधि (Gokarunanidhi)

10.00

99 in stock

महर्षि दयानन्द ने सभी पशुओं की हिंसा रोककर उनकी रक्षा करने के उद्देश्य से यह पुस्तक लिखी । चूँकि गौंओं के दूध तथा बैलों से सबसे अधिक हित होता है , अतः उन्होंने गौ की रक्षा पर अधिक बल दिया । वैसे सभी पशुओं की सुरक्षा के लिए लिखा है ।

100 – 100 प्रतियाँ खरीद कर अपने परिचितों व मित्रों में बाँटिये ।

  Ask a Question

महर्षि दयानन्द ने सभी पशुओं की हिंसा रोककर उनकी रक्षा करने के उद्देश्य से यह पुस्तक लिखी । चूँकि गौंओं के दूध तथा बैलों से सबसे अधिक हित होता है , अतः उन्होंने गौ की रक्षा पर अधिक बल दिया । वैसे सभी पशुओं की सुरक्षा के लिए लिखा है ।

100 – 100 प्रतियाँ खरीद कर अपने परिचितों व मित्रों में बाँटिये ।

Additional information

Weight 0.07 kg
Dimensions 21.59 × 12.7 cm
Be the first to review “गोकरुणानिधि (Gokarunanidhi)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Reviews

There are no reviews yet.

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.

Main Menu

गोकरुणानिधि (Gokarunanidhi) -

गोकरुणानिधि (Gokarunanidhi)

10.00

Add to Cart